spot_img
Wednesday, December 7, 2022
spot_img
spot_img
Wednesday, December 7, 2022
spot_img

Related articles

spot_img
spot_img

फंदे पर झूलता मिला पूर्व CBI Director अश्विनी कुमार का शव

spot_img
spot_img
- Advertisement -

नई दिल्ली । पूर्व CBI Director अश्विनी कुमार का शव उनके शिमला स्थित आवास पर फांसी के फंदे पर झूलता मिला। ये वही अधिकारी हैं जिन्होंने हाई प्रोफाइल आरुषि हत्याकांड की जांच की थी। अधिकारियों को संदेह है कि कुमार ने आत्महत्या की है। अधिकारियों ने बताया कि 1973 बैच के आईपीएस अधिकारी कुमार (69) बुधवार शाम छोटा शिमला के पास ब्रोकहॉर्स्ट स्थित आवास पर फांसी के फंदे से लटके मिले।

- Advertisement -

घटना को लेकर हिमाचल प्रदेश के डीजीपी ने कहा- हमें एक सुसायड नोट मिला है जिसपर लिखा है कि अश्विनी एक नई यात्रा पर जा रहे हैं। उनके परिवार के सदस्य उस वक्त घर में ही थे, जब वह कमरे में गए। उन्होंने कमरा भीतर से बंद किया और नायलोन की रस्सी से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। परिवार को किसी गड़बड़ी की कोई आशंका नहीं है। हमने कमरे में रखी चीजों को जब्त कर लिया है।

इसे भी पढ़ें : ‘जब तक दवाई नहीं तब तक कोई ढिलाई नहीं’, Governor-CM ने शेयर की वीडियो

अधिकारियों ने बताया कि शुरुआती जांच से लगता है कि पिछले छह महीने में पूर्व CBI Director अश्विनी कुमार के सक्रिय जीवन में आया ठहराव, उनका अचानक यूं घर में बंद होकर रह जाना आत्महत्या का कारण जान पड़ता है, लेकिन पुलिस सभी पहलुओं से जांच कर रही है। उनके पड़ोसियों में से एक के अनुसार कुमार हमेशा की तरह शाम को टहलने गए थे। घर आने के बाद वह बरसाती में गए। परिवार के किसी सदस्य ने उन्हें रात के भोजन के लिए बुलाने बरसाती में गया था, उसी ने सबसे पहले उनका शव देखा।

CBI Director अश्विनी कुमार साल 2013 में बने थे नगालैंड का राज्यपाल

कुमार के परिवार में पत्नी और बेटा हैं। कुमार के पुराने सहकर्मी और मौजूदा अधिकारी भी उन्हें मृदुभाषी और हमेशा मुस्कुराते रहने वाला व्यक्ति बताते हैं। हिमाचल प्रदेश के नाहन के रहने वाले कुमार 2008 में सीबीआई के निदेशक बने थे जब एजेंसी आरुषि तलवार हत्या मामले की जांच कर रही थी। कुमार ने विजय शंकर की जगह सीबीआई के निदेशक का पद संभाला था। उस दौरान आरुषी हत्याकांड लगभग रोज सुर्खियों में रहता था। अधिकारियों ने बताया कि उन्होंने प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार खास दस्ता विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) के साथ भी काम किया है। संप्रग सरकार ने 2013 में उन्हें नगालैंड का राज्यपाल नियुक्त किया था। उन्होंने बताया कि हिमाचल प्रदेश पुलिस के पूर्व प्रमुख कुमार वर्तमान में शिमला के एक निजी विश्वविद्यालय के कुलपति थे।

इसे भी पढ़ें : IndianAirforceDay पर राफेल ने भरा जोश

इसे भी पढ़ें : बॉलीवुड में अपने कदम जमा रहे गढ़वा के साकेत

- Advertisement -
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

spot_img
spot_img

Recent articles

spot_img

Don't Miss

spot_img