रांची के कुणाल ने गाड़ा वियतनाम में योग का झंडा… देखें वीडियो

Published:

Ranchi : जैसे आप एंड्रायड मोबाइल फोन में लगे रहकर बेहतर से बेहतर जानकारी हासिल कर लेते हैं। ठीक वैसा ही इंसानी तंत्र है। जितना जानेंगे इंसानी तंत्र को उतना बेहतर सेहत और जिंदगी हासिल कर सकते हैं। यही इंजीनियरिंग एक योग है। बूढ़े बुढ़ी, औरत-मर्द, जवान लड़का-लड़की या बच्‍चे हर कोई योग की कला सीख अपनी सेहत को बेहतर बना सकते हैं। महामारी कोरोना के बाद लोगों का ध्‍यान सहसा योग की तरफ गया है। भले डर से ही Yoga सीखना शुरू किया, पर उसका नतीजा सामने पाकर अब दूसरे को भी योग करने के लिए प्रेरित करने लगे है। Yoga मस्तिष्‍क और शरीर का संगम है। Yoga रक्‍त संचार, पाचन और स्‍वांस प्रक्रिया को ठीक रखता है।

Yoga से चिंता, तनाव, डिप्रेशन और गुस्‍से पर आसानी से काबू पाया जा सकता है। शरीर का वजन भी संतुलित रहता है। योग से शरीर में फूर्ति और शरीर के अंदर का पार्ट पूर्जा मजबूत होता है। सबसे बड़ी बात स्‍टेमिना बढ़ जाती है। बिना खर्च के सेहत को तंदुरुस्‍त, अच्‍छा, सुरक्षित रखने का सबसे आसान तरीका है Yoga। हर साल 21 जून को योग दिवस मनाया जाता है। कोरोना लगभग हर तबका को डरा गया। लॉकडाउन ने मौका दिया, खूब टाइम मिलने के कारण लोगों ने योग और उसकी ताकत को समझा। जब Yoga को अपनाया तो फायदे देख दंग रह गए। लोगों को अब लगने लगा है Yoga ही एक ऐसा हथियार है, जिसे अपनाकर रोगों से और टेंशन से दूर रहा जा सकता है। राजधानी रांची के कोकर का रहने वाला कुणाल Yoga में माहिर है। उसने वियतनाम में योग का झंडा गाड़ा है। कुणाल अपने हुनर का जलवा बिखेर लोगों को Yoga सिखाने में जुटा हुआ है। आईये देखें, सुनें, समझें क्‍या कहते हैं योग करने वाले…

इसे भी पढ़ें : प्रतिशोध का नतीजा है भाई-बहन का Bru*tal Mu*rder… देखें वीडियो

इसे भी पढ़ें : एक्सप्रेस ट्रेन में जन्मा बच्चा… देखें

इसे भी पढ़ें : शांति का दीया जला, संवर गया अपना शहर… देखें वीडियो

Related articles

Recent articles

Follow us

Don't Miss