spot_img
Wednesday, August 10, 2022
spot_img
Wednesday, August 10, 2022
spot_img

Related articles

तनाव के बीच सीमा पर सबसे खतरनाक निर्भय क्रूज मिसाइल तैनात

- Advertisement -

नई दिल्‍ली : चीन से तनाव के बीच भारत सीमा पर अपनी पकड़ मजबूत करने में जुटा है। भारत ने टी-90 भीष्म टैंक के बाद अब सीमा पर निर्भय क्रूज मिसाइल को भी तैनात कर दिया है। यह मिसाइल 1000 किलोमीटर तक मार करने में सक्षम है. निर्भय मिसाइल तिब्बत में चीन के ठिकानों पर हमला करने में सक्षम है.

Read More : झारखंड के शिक्षा मंत्री भी कोरोना संक्रमित, रिम्स में हुए भर्ती

- Advertisement -

पिछले लगभग 5 महीने से सीमा पर भारत और चीन के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। तनाव के बीच दोनों देश सीमा पर सैन्‍य ताकत बढ़ाने में जुटे हैं। कई जगहों पर भारत और चीन की सेनाएं आमने-सामने है। बढ़ते तनाव के बीच भारत कई दुर्गम चोटियों पर सैन्‍य साजो-सामान पहुंचाने में जुटा है। भारत ने टी-90 भीष्म टैंक के बाद निर्भय क्रूज मिसाइल को भी तैनात कर दिया है। वहीं चीन भी सीमा पर सैन्‍य ताकत बढ़ाने में जुटा है।

Read More : हाईटेंशन तार से कंटेनर में लगी आग, चालक की दर्दनाक मौत

क्या है निर्भय क्रूज मिसाइल की खासियत

निर्भय क्रूज मिसाइल बिना भटके अपने निशाने पर अचूक मार करने में सक्षम है. निर्भय कई लक्ष्यों के बीच हमला करने में सक्षम है। मिसाइल में मंडराने की क्षमता है। जिससे यह कई पैंतरेबाज़ी प्रदर्शन कर सकती है। दो पंख के साथ, मिसाइल विभिन्न ऊंचाई 500 मीटर से लेकर 4 किमी की ऊंचाई पर उड़ान भरने में सक्षम है। यह दुश्मन के रडार से बचने के लिए नीची ऊंचाई पर उड़ान भर सकती है। यह मिशन की आवश्यकताओं के आधार पर अलग-अलग प्रकार के 24 हथियारों को वितरित करने में सक्षम है।

Read More : मोबाइल लूटकर भाग रहे दो अपराधी गिरफ्तार, जेल भेजे गए

निर्भय क्रूज मिसाइल को भारत में ही डिजाइन और तैयार किया गया है. इस मिसाइल का पहला परीक्षण 12 मार्च 2013 में किया गया था. निर्भय दो चरण वाली मिसाइल है, पहली बार में लबंवत दूसरे चरण में क्षैतिज. यह पारंपरिक रॉकेट की तरह सीधा आकाश में जाती है फिर दूसरे चरण में क्षैतिज उड़ान भरने के लिए 90 डिग्री का मोड़ लेती है.

इस मिसाइल को 6 मीटर लंबी और 0.52 मीटर चौड़ी बनाया गया है. यह मिसाइल 0.6 से लेकर 0.7 मैक की गति से उड़ सकती है, इसका वजन अधिकतम 1500 किलोग्राम है जो 1000 किलोमीटर तक मार कर सकती है, एडवांस सिस्टम लेबोरेटरी द्वारा बनाई गई ठोस रॉकेट मोटर बूस्टर का प्रयोग किया गया है, जिससे मिसाइल को ईंधन मिलता है.

- Advertisement -
spot_img

Recent articles

Don't Miss

spot_img