spot_img
Tuesday, September 27, 2022
spot_img
Tuesday, September 27, 2022
spot_img

Related articles

spot_img

14 महीनों बाद Mehbooba रिहा, ‘नहीं भूली उस काले फैसले की बेइज्जती’

spot_img
- Advertisement -

जम्मू : करीब 14 महीनों के बाद जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख Mehbooba Mufti रिहा हो गई हैं। रिहाई के बाद महबूबा मुफ्ती ने अपना एक ऑडियो संदेश जारी कर जम्मू-कश्मीर के लिए संघर्ष का ऐलान किया। पांच अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने और धारा 35ए को खत्म करने से ठीक पहले जन सुरक्षा कानून के तहत Mehbooba Mufti को नजरबंद किया गया था। मगर करीब 14 महीने बाद रिहा कर दिया गया। इसके बाद महबूबा मुफ्ती ने कहा कि उस काले दिन का काला फैसला उनके दिमाग में हर रोज खटकता रहा है और इसके लिए वह संघर्ष करेंगी।

अनुच्छेद-370 की बहाली के लिए फिर से संघर्ष शुरू करेंगी Mehbooba Mufti

- Advertisement -

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने रिहा होते ही ऐलान किया है कि अनुच्छेद-370 की बहाली के लिए वे फिर से संघर्ष शुरू करेंगी। अपने ट्विटर अकाउंट पर करीब 1 मिनट 23 सेकेंड के अपने ऑडियो संदेश में महबूबा ने कहा, मैं आज एक साल से भी ज्यादा अर्से के बाद रिहा हुई हूं। इस दौरान 5 अगस्त 2019 के उस काले दिन का काला फैसला हर पल मेरे दिल और रूह पर हर पल वार करता रहा। मुझे एहसास है कि यही कैफियत जम्मू-कश्मीर के लोगों की रही होगी। हम में से कोई भी शख्स उस दिन की बेइज्जती को भूल नहीं सकता।

इसे भी पढ़ें : Whatsapp पर आपत्तिजनक पोस्ट करना पड़ा महंगा, छात्र निष्कासित

यह रास्ता आसान नहीं है, यकीन है हौसले से दुश्वार रास्ता भी तय होगा

ऑडियो में वह आगे कहती हैं, ‘दिल्ली दरबार ने गैर कानूनी, गैर लोकतांत्रिक और गैर कानूनी तरीके से हमसे छीन लिया, उसे वापस लेना होगा। बल्कि उसके साथ-साथ कश्मीर के मसले को हल करने के लिए जद्दोजहद जारी रखनी होगी, जिसके लिए हजारों लोगों ने अपनी जानें न्योछावर की। मैं मानती हूं कि यह रास्ता आसान नहीं है, मुझे यकीन है कि हौसले से यह दुश्वार रास्ता भी तय होगा। आज जब मुझे रिहा किया गया है, मैं चाहती हूं कि जम्मू-कश्मीर के जितने भी लोग देश की जेलों में बंद हैं, उन्हें जल्द से जल्द रिहा किया जाए।

इसे भी पढ़ें : सदर अस्पताल में Covid डेडिकेटेड वार्ड की शुरुआत, गंभीर मरीजों को मिलेगी राहत

महिला मुख्यमंत्री रहीं महबूबा को केंद्र द्वारा इस राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने एवं अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी बनाये जाने के समय कई अन्य नेताओं के साथ हिरासत में ले लिया गया था। उन्हें सीआरपीसी की धारा 107 और 151 के तहत हिरासत में लिा गया था लेकिन बाद में उनके खिलाफ जन सुरक्षा अधिनयिम के तहत मामला दर्ज किया गया।

महबूबा की बेटी इल्तिजा ने उन्हें हिरासत में रखे जाने को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी थी जिसकी पिछली सुनवाई 29 सितंबर को हुई थी। जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों एवं नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेताओं – फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला को सात माह की हिरासत के बाद मार्च में रिहा कर दिया गया था।

इसे भी पढ़ें : Central staff को त्‍यो‍हारी तोहफा, 10 हजार का मिलेगा फेस्‍टिव लोन  

इसे भी पढ़ें : सोशल मीडिया पर Trend कर रहा है बॉयकॉट बॉलीवुड इंडस्ट्री

- Advertisement -
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

spot_img
spot_img

Recent articles

spot_img

Don't Miss

spot_img