क्या कभी सोचा है, आखिर पैदा होते ही काला क्यों होता है बालों का रंग?

Published:

Kohramlive Desk : सिर पर बाल न हों तो आप गंजे कहे जाएंगे। बालों को आप अलग-अलग स्टाइल में रख सकते हैं। इससे आपकी पर्सनालिटी का इंप्रेशन पता चलता है। सामान्य रूप से भारत के लोगों के बाल काले होते हैं। विदेशी नागरिकों के बाल के रंग भूरे या गोल्डन कलर के होते हैं। अब अगर हम सोचें कि भारत के लोगों के बाल काले ही क्यों होते हैं तो इसका सबसे महत्वपूर्ण आधार शरीर विज्ञान से पता चलता है। चिकित्सा विज्ञान के जानकार बताते हैं कि शरीर में मेलानिन (Melanin) नामक जैव रासायनिक पदार्थ पैदा होता है। इसी की वजह से बालों का रंग काला होता है। जैसे-जैसे इसकी मात्रा कम होती जाती है, इंसान के बाल सफ़ेद होने लगते हैं। इंसान की बॉडी में मेलानिन की मात्रा सबसे ज्यादा बालों में पाई जाती है। इसी वजह से इनका रंग इतना डार्क काला होता है।

उम्र के साथ बदलता है बालों का रंग

उम्र के साथ जैसे-जैसे मेलानिन की मात्रा कम होती है, सिर के बालों का रंग सफ़ेद होता जाता है। अगर बॉडी में मेलानिन है लेकिन नॉर्मल से कम है तो बालों का कलर भूरा या गोल्डन हो जाता है। इसकी मात्रा जियोग्राफिक इन्वायरमेंट पर भी निर्भर करता है। इसी वजह से कई देशों में बच्चों के बाल गोल्डन होते हैं। वहां का वातावरण ऐसा होता है कि बच्चों की बॉडी में मेलानिन भारतीय बच्चों के मुकाबले कम होता है। इसी कारण इनके बाल काले नहीं होते।

इसे भी पढ़ें : नौकरी का झांसा देकर मुंबई लाया जीजा, फिर साली के साथ जो हुआ, देखें…

इसे भी पढ़ें : पति को प्रेमिका के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देख आग बबूला हुई बीबी, फिर कर दिया ये…

इसे भी पढ़ें : नहाती लड़की का बनाया वीडियो, फिर जो हुआ…

इसे भी पढ़ें : बड़ी खबर : बिहार में फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्वीटर समेत 22 एप्स पर लगा बैन, जाने क्यों

इसे भी पढ़ें : अब आम लोग भी बेच सकेंगे रेलवे टिकट, जानिये कहां और कैसे

इसे भी पढ़ें : ‘कजरा मोहब्बत वाला, अंखियों में ऐसा डाला’ पर स्कूल टीचर ने लगाया ठुमका, वीडियो हुआ वायरल

इसे भी पढ़ें : बाल-बाल बचे स्कूल बस में सवार 70 बच्चे… देखें कैसे

इसे भी पढ़ें : OMG! बहन की बुलेट पर बैठ, दूल्हा भाई पहुंचा जयमाला तक

इसे भी पढ़ें : नेता जी टेंशन में थे, क्या किया बीबी और खुद का हाल, देखें…

Related articles

Recent articles

Follow us

Don't Miss