spot_img
Thursday, August 18, 2022
spot_img
Thursday, August 18, 2022
spot_img
spot_img

Related articles

सर्दियों में Car Driving का है प्लान, इन बातों का रखें ध्यान

- Advertisement -

कोहराम लाइव डेस्क : सर्दी में Car Driving का है प्लान? तो इन बातों का रखे ध्यान। आ गया है मौसम सर्दी का। सर्दियों में अक्सर हम धुंध से परेशान हो जाते हैं। ज्यादातर धुंध सुबह और शाम में होता है। धुंध या ओस जब भी हो तो हमें उसके पार की वस्तु नजर नहीं आती। ठीक वैसे ही Car Driving में भी होता है।

ओस के कारण Car Driving में आती हैं मुश्किलें

सर्दियों का मौसम घूमने-फिरने के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। देशभर में अब कोविड महामारी का असर कम हो रहा है। ऐसे में इस विंटर सीजन में कई लोग कार से ट्रैवलिंग का प्लान कर सकते हैं।

जानें Winter Car Driving में सेफ्टी की 10 बातें

- Advertisement -

Car के Fog Lamp को सही रखें

अपनी कार की फॉग लैम्प को एक्टिव या सही रखें। कार में फॉग लैम्प नहीं होने पर Fog Lamp फिक्स करवा लें। ओस या धुंध के लिए फॉग लैम्प है जरुरी। यदि आपकी कार के वाइपर की रबड़ थोड़ी सी भी खराब हो रही है, तब उसे भी बदल डालें। कार वाइपर की कीमत 200 रुपए के करीब से शुरू हो जाती है। सर्दी के मौसम में जब फॉग होता है या फिर ओस गिरती है, तब वाइपर विंडशील्ड को साफ करने का काम कर+ते हैं।

सर्दी के मौसम में यदि बाहर धुंध ज्यादा है और आपकी कार में डीफॉगर दिया है, तब उसका इस्तेमाल करना चाहिए। कई बार रियर ग्लास पर मॉयश्चर आ जाता है, ऐसे में डीफॉगर की मदद से उसे जल्दी साफ कर सकते हैं। डीफॉगर ग्लास पर हीट जनरेट करता है जिससे मॉयश्चर खत्म हो जाता है।

इसे भी पढ़ें : Sad : विजयादशमी पर बुझा घर का चिराग, नदी में बहे रांची के तीन बच्चे

टायरों में ओवर एयर प्रेशर से बचें

सर्दी के मौसम में टायरों में हवा ज्यादा बिल्कुल नहीं होना चाहिए। ठंड में सड़कों में नमी होती है। ऐसे में गाड़ी की स्पीड ज्यादा है और अचानक से ब्रेक लगाने पड़े तब कार के स्किड होना का खतरा रहता है। सर्दी में टायरों की रबर थोड़ी सिकुड़ जाती है।

इमरजेंसी इंडिकेटर का इस्तेमाल नहीं करें

बारिश के मौसम की तरह सर्दी के मौसम में भी इमरजेंसी इंडिकेटर ऑन करने से बचना चाहिए। इसका सबसे बड़ा नुकसान ये होता है कि गाड़ी मोड़ते वक्त आप इंडिकेटर का इस्तेमाल नहीं कर पाते। ऐसे में पीछे या आगे से आ रही गाड़ी से एक्सीडेंट होने खतरा बन जाता है। इसकी जगह हेडलाइट का इस्तेमाल करना चाहिए।

इंजन को पांच मिनट तक होने दें गर्म

जब भी आप सर्दी के मौसम में कार को स्टार्ट करते हैं, तब 5 मिनट तक इंजन को गर्म होने दें। इस दौरान आप एक्सीलेटर का इस्तेमाल नहीं करें। एक्सीलेटर का इस्तेमाल करने से कार के इंजन पर असर होता है। खासकर, आपकी गाड़ी में डीजल इंजन है तब उसे 5 मिनट तक स्टार्ट रखना जरूरी हो जाता है।

बैटरी का चार्ज करते रहें

जिन कार की बैटरी पुरानी हो चुकी है वे सर्दी के मौसम में प्रॉब्लम करने लगती हैं। ऐसे में बैटरी को सही करना सबसे जरूरी हो जाता है, क्योंकि कार का स्टार्ट होना बैटरी से जुड़ा होता है। ऐसे में यदि आप अपनी कार को डेली यूज नहीं करते हैं तब हर 3 दिन में कार को 5 से 6 किलोमीटर जरूर चलाएं।

इसे भी पढ़ें : Puja : मुख्यमंत्री ने पत्नी संग किया हवन और कन्या पूजन

एंटी फॉगिंग में चावल का ऐसे करें इस्तेमाल

सर्दी के दिनों में कार के अंदर फॉग आना आम बात है। इसे दूर करने के लिए आप एंटी फॉगिंग स्प्रे, सिलिका जेल जैसे किसी एलिमेंट का इस्तेमाल कर सकते हैं। आप चाहें तो कपड़े की छोटी पोटली में चावल भरकर भी रख सकते हैं। इससे कार के अंदर फॉग की प्रॉब्लम काफी दूर होगी।

एसी का इस्तेमाल

बात थोड़ी अजीब है लेकिन विंडशील्ड के मॉयश्चर को हटाने का ये सबसे बेस्ट तरीका होता है। यदि आपकी कार में ज्यादा लोग हैं तब उनकी बॉडी टेम्प्रेचर से कार के अंदर का टेम्प्रेचर बढ़ जाता है। ऐसे में यदि कार के बाहर का टेम्प्रेचर 8 से 10 डिग्री है तब आप एसी का टेम्प्रेचर 18 से 20 डिग्री तक कर सकते हैं। भाप हटाने के लिए हीटर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

लो विस्कोसिटी ऑयल का इस्तेमाल

यदि आपके एरिया में सर्दी ज्यादा है तब आपको लो विस्कोसिटी इंजन ऑयल का इस्तेमाल करना चाहिए। खासकर पहाड़ों में रहने वाले लोगों को 5W-30 या 0w-30 इंजन ऑयल का इस्तेमाल करना चाहिए। ये ऑयल इंजन का काफी स्मूद रखते हैं। पहाड़ों में रहने वालों को गाड़ी का इंजन गर्म जरूर करना चाहिए, ये ब्रेक के लिए भी जरूरी होता है।

- Advertisement -
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

Recent articles

Don't Miss

spot_img