spot_img
Thursday, October 6, 2022
spot_img
spot_img
Thursday, October 6, 2022
spot_img
spot_img

Related articles

spot_img
spot_img

विश्‍व पोलियो दिवस आज, जानिये क्‍या है पोलियो और इसका इतिहास  

spot_img
- Advertisement -

कोहराम लाइव डेस्‍क : आज World-Polio-Day है। यह हर साल 24 अक्टूबर को मनाया जाता है। इसे मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों में पोलियो के प्रति जागरूकता फैलाना है। यह एक विषाणु जनित संक्रामक रोग है, जिससे संपूर्ण शरीर पर प्रतिकूल असर पड़ता है। इस रोग में व्यक्ति का शरीर लकवाग्रस्त हो जाता है। इस बीमारी को ‘पोलियोमायलाइटिस’ भी कहा जाता है। यह बीमारी बच्चों में अधिक होता है। इस बीमारी से आज भी कई देश जूझ रहे हैं। जबकि कई देश हराने में कामयाब हो चुके हैं। भारत भी Polio मुक्त देश बन गया है।

- Advertisement -

झारखंड के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री बन्‍ना गुप्‍ता ने पोलियो दिवस के मौके पर ट्वीट कर पोलियो के प्रति जागरूकता फैलाने व बच्चों के टीकाकरण करवाने के लिए लोगों को प्रेरित करने का संकप्‍ल लिया। उन्‍होंने लिखा कि आज विश्व पोलियो दिवस के अवसर पर हम प्रण ले कि पोलियो के प्रति जागरूकता फैलाने व बच्चों के टीकाकरण करवाने के लिए लोगों को प्रेरित करेंगे। राज्य सरकार और स्वास्थ्य विभाग पोलियो रोकने के लिए दृढ़ संकल्पित हैं।

24 अक्टूबर को क्यों मनाया जाता है Polio-Day

विश्व पोलियो दिवस हर साल 24 अक्तूबर को जोनास साल्क के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है, जो अमेरिकी वायरोलॉजिस्ट थे। जिन्होंने दुनिया का पहला सुरक्षित और प्रभावी पोलियो वैक्सीन बनाने में मदद की थी। डॉक्टर जोनास साल्क ने साल 1955 में 12 अप्रैल को ही पोलियो से बचाव की दवा को सुरक्षित करार दिया था और दुनिया के सामने प्रस्तुत किया था। एक समय यह बीमारी सारी दुनिया के लिए एक बड़ी चुनौती बनी हुई थी और डॉ. साल्क ने इसके रोकथाम की दवा ईजाद करके मानव जाति को इस घातक बीमारी से लड़ने का हथियार दिया था, लेकिन 1988 में ग्लोबल पोलियो उन्मूलन पहल (GPEI) की स्थापना की गई। यह पहल विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ), रोटरी इंटरनेशनल और अन्य जो पोलियो उन्मूलन के लिए वैश्विक स्तर पर दृढ़ संकल्प थे, उनके द्वारा की गई।

क्या है Polio-Day?

पोलियो या पोलियोमेलाइटिस, एक अपंग यानी विकलांग करने वाली घातक बीमारी है। पोलियो वायरस के कारण यह बीमारी होती है। व्यक्ति से व्यक्ति में फैलने वाला यह वायरस संक्रमित व्यक्ति के मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी पर हमला कर सकता है, जिससे पक्षाघात होने की आशंका होती है। पक्षाघात की स्थिति में शरीर को हिलाया नहीं जा सकता और व्यक्ति हाथ, पैर या अन्य किसी अंग से विकलांग हो सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रयासों और विभिन्न देशों की सरकारों की दृढ़ता के साथ टीकाकरण अभियान ने दुनिया को पोलियो से बचाया। भारत पिछले 7-8 वर्षों से पोलियो मुक्त हो चुका है। हालांकि दुनिया के कुछ हिस्सों में विकलांगता के कुछ केस सामने आते हैं।

दो तरह की पोलियो वैक्सीन का ईजाद हुआ

दुनियाभर में पोलियो का मुकाबला करने के लिए दो तरह की पोलियो वैक्सीन का ईजाद हुआ। पहला जोनास सॉल्क द्वारा विकसित किया गया टीका, जिसका साल 1952 में पहला परीक्षण किया गया और 12 अप्रैल 1955 को इसे प्रमाणित कर दुनियाभर में उपयोग के लिए प्रस्तुत किया गया। यह निष्क्रिय या मृत पोलियो वायरस की खुराक थी। वहीं, एक ओरल टीका अल्बर्ट साबिन ने भी तनु यानी कमजोर किए गए पोलियो वायरस का उपयोग करके विकसित किया था, जिसका साल 1957 में परीक्षण शुरू हुआ और 1962 में लाइसेंस मिला। सबसे पहले टीका विकसित करने के लिए दुनिया डॉक्टर साल्क का योगदान याद करती है

पोलियो के लक्षण

क्लीवलैंड क्लिनिक का कहना है कि पोलियो से संक्रमित लगभग 72 फीसदी लोग किसी भी लक्षण का अनुभव नहीं करते हैं। संक्रमित लोगों में से लगभग 25 फीसदी में बुखार, गले में खराश, मतली, सिरदर्द, थकान और शरीर में दर्द जैसे लक्षण होते हैं। शेष कुछ रोगियों में पोलियो के अधिक गंभीर लक्षण हो सकते हैं, जैसे कि निम्नलिखित:-

  • पैरेथेसिया- हाथ और पैर में पिन और सुई चुभने जैसा अनुभव होता है।
  • मेनिनजाइटिस – मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी के आवरण में संक्रमण।
  • पक्षाघात – पैर, हाथ को स्थानांतरित करने की क्षमता में कमी या अनुपस्थिति और सांस लेने की मांसपेशियों में खिंचाव।
- Advertisement -
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

spot_img
spot_img

Recent articles

spot_img

Don't Miss

spot_img