साबुन से क्यों निकलता है सिर्फ सफेद झाग, जानें

Published:

Kohramlive desk: हर कोई अलग-अलग तरह का साबुन इस्‍तेमाल करतें है। बाजार में नहाने से लेकर कपड़े धोने के साबुन उपलब्ध हैं। क्या आपने कभी सोचा है कि साबुन किसी भी रंग का हो, उसका झाग हमेशा सफेद ही क्यों निकलता है?

साबुन का झाग सफेद रंग का क्‍यों निकलता

किसी भी साबुन से हाथ धोने के बाद उसका रंग कहीं खो जाता है। झाग सिर्फ सफेद ही निकलता है। विज्ञान के अनुसार, किसी भी चीज का अपना कोई रंग नहीं होता है। किसी भी चीज के रंगीन दिखने के पीछे की वजह प्रकाश की किरणें होती हैं।

यदि कोई चीज प्रकाश की सभी किरणों को एब्जॉर्व कर लेती है। वह चीज काली दिखाई देती है। दूसरी तरफ अगर कोई चीज प्रकाश की सभी किरणों को रिफलेक्ट कर देती है। वह चीज सफेद दिखाई देती है। साबुन के झाग के मामले में भी ऐसा ही है।

छोटे बुलबुलों से मिलकर बनता है झाग

साबुन का झाग कोई ठोस पदार्थ नहीं है। ये सबसे छोटी पानी, हवा और साबुन से मिलकर बनी एक पतली फिल्म होती है। ये पतली फिल्म जब गोल आकार ले लेती है तो हम इसे बुलबुला कहते हैं। दरअसल soap का झाग छोटे-छोटे बुलबुलों का समूह होता है।

साबुन के एक बुलबुले में सूर्य की किरणें जाते ही अलग-अलग दिशा में रिफलेक्ट होने लगती हैं। यानी सूर्य की किरणें किसी एक दिशा में न जाने की बजाय अलग-अलग दिशा में बिखर जाती हैं। यही वजह होती है कि साबुन का एक बुलबुला पारदर्शी सतरंगी जैसा दिखाई देता है। आसमान का रंग भी सफेद दिखने की यही वजह है।

झाग बनाने वाले छोटे-छोटे बुलबुले भी इसी तरह के सतरंगी पारदर्शी बुलबुलों से बने होते हैं लेकिन ये इतने बारीक होते हैं कि हम सातों रंगों को नहीं देख पाते हैं। वहीं दूसरी ओर प्रकाश इतनी तेजी से घूमता है कि वो सभी रंगों को परिवर्तित करता रहता है। यानि कोई वस्तु सभी रंगों को परिवर्तित कर दे तो उसका रंग सफेद दिखाई देता है। इसी वजह से साबुन का रंग सफेद दिखाई देता है।

इसे भी पढ़ें :  अजब गजब: जिसे कभी देखा नहीं, वह कर सकता है धरती पर हमला….

इसे भी पढ़ें :  आखिर क्यों पीला हो जाता है Transparent Mobile Cover

इसे भी पढ़ें :  यहां जानवरों को भी मिला कानूनी अधिकार, क्‍या है कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला

इसे भी पढ़ें :  सिक्के पर बने अंगूठे के निशान का क्या मतलब है, जानें

Related articles

Recent articles

Follow us

Don't Miss