spot_img
Thursday, August 18, 2022
spot_img
Thursday, August 18, 2022
spot_img
spot_img

Related articles

Human Body में मिला नया अंग, कैंसर मरीजों को मिलेगा फायदा

- Advertisement -

कोहराम लाइव डेस्‍क : वैज्ञानिकों ने Human Body में गले के ऊपरी हिस्से में लार ग्रंथियों का एक सेट खोजा है. जर्नल रेडियोथेरेपी और ऑन्कोलॉजी (journal Radiotherapy and Oncology) के हिसाब से ये करीब 1.5 इंच का है. नाम की बात करें तो शोधकर्ताओं ने इन ग्लैंड्स का नाम ‘ट्यूबेरियल ग्लैंड्स’ बताया है. इसके बारे में अब तक कोई जानकारी ही नहीं थी. इसकी वजह यह है कि ये ग्लैंड्स टोरस ट्यूबेरियस नाम के कार्टिलेज के एक हिस्से पर स्थित हैं. अभी गहन रिसर्च जारी है.

इसे भी पढ़ें : Sad : विजयादशमी पर बुझा घर का चिराग, नदी में बहे रांची के तीन बच्चे

- Advertisement -

कैंसर मरीजों को होगा फायदा 

ग्रंथियों का यह नया सेट नाक के पीछे और गले के कुछ ऊपर के हिस्से में मिला है, जो करीब 1.5 इंच का है। एम्सटरडम स्थित नीदरलैंड्स कैंसर इंस्टिट्यूट के रिसर्चरों ने कहा कि इस खोज से रेडियोथेरेपी की वो तकनीकें विकसित करने और समझने में मदद मिलेगी, जिनसे कैंसर के मरीज़ों को लार और निगलने में होने वाली समस्याओं को दूर किया जा सकेगा।

इसे भी पढ़ें : त्योहारों पर अवश्य याद रखें Vocal for Local का संकल्प : मोदी

‘ट्यूबेरियल ग्लैंड्स’ रखा गया नाम

रेडियोथेरेपी एंड ओंकोलॉजी नाम पत्र में प्रकाशित हुए शोध में शोधकर्ताओं ने लिखा कि Human Body में ये माइक्रोस्कोपिक सलाइवरी ग्लैंड लोकेशन चिकित्सा विज्ञान के लिहाज़ से काफी अहम है, जिसे अब तक जाना ही नहीं गया था। रिसर्चरों ने इन ग्लैंड्स का नाम ‘ट्यूबेरियल ग्लैंड्स’ प्रस्तावित किया। इसकी वजह यह है कि ये ग्लैंड्स टोरस ट्यूबेरियस नाम के कार्टिलेज के एक हिस्से पर स्थित है। हालांकि कहा गया है कि इस बारे में और गहन रिसर्च की ज़रूरत है, ताकि इन ग्लैंड्स को लेकर बारीक से बारीक बात कन्फर्म हो सके। अगर आने वाली रिसर्चों में इन ग्लैंड्स की मौजूदगी और इससे जुड़ी कुछ और जिज्ञासाओं का समाधान हो जाता है तो पिछले 300 सालों में नये सलाइवरी ग्लैंड्स की यह पहली अहम खोज मानी जाएगी।

कैसे हुई इसकी खोज ? 

रिसर्चर वास्तव में प्रोस्टेट कैंसर को लेकर स्टडी कर रहे थे और इसी दौरान संयोग से उन्हें इन ग्लैंड्स के बारे में पता चला। संकेत मिलने पर इस दिशा में और रिसर्च की गई। रिसर्चरों ने कहा कि मानव शरीर में सलाइवरी ग्लैंड्स के तीन बड़े सेट हैं, लेकिन जहां नई ग्लैंड्स मिली हैं, वहां नहीं। रिसर्चरों ने खुद माना कि इन ग्लैंड्स के बारे में पता चलना उनके लिए भी किसी आश्चर्य से कम नहीं था।

- Advertisement -
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

Recent articles

Don't Miss

spot_img