spot_img
Thursday, October 6, 2022
spot_img
spot_img
Thursday, October 6, 2022
spot_img
spot_img

Related articles

spot_img
spot_img

MadhyaPradesh में गरीबों का संबल शिवराज पर आ रहे मजेदार संदेश

spot_img
- Advertisement -

कोहराम लाइव डेस्क : MadhyaPradesh में मुख्यमंत्री जन कल्याण संबल योजना के तहत संबल परिवारों के ऐसे 5000 बच्चे जो 12वीं में सबसे ज्यादा नंबर ला रहे हैं, उन्हें 30000 रुपये प्रोत्साहन राशि के रूप में अलग से दिए जा रहे हैं। किश्त मिलने के बाद ट्वीटर पर इस योजना को लेकर संदेशों की बाढ़ आ गई है। इस कारण गरीबों का संबल शिवराज हैशटैग सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है।

MadhyaPradesh में योजना रिलॉन्च

- Advertisement -

MadhyaPradesh के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मई 2020 में मुख्यमंत्री जन कल्याण संबल योजना को रिलॉन्च किया। इसके तहत 1863 हितग्राहियों के खाते में 41.29 करोड़ रुपये ई-भुगतान के माध्यम से ट्रांसफर किए गए। असंगठित क्षेत्र के कामगारों के लिए 2018 में मुख्यमंत्री जन कल्याण संबल योजना शुरू की गई थी। बाद में कमलनाथ सरकार के सत्ता में आने के बाद इस योजना को बंद कर दिया गया था और नया सवेरा योजना शुरू की थी।

इसे भी पढ़ें : प्यार, धोखा, भरोसे का खून… Tara के इश्क का अंजाम, मारा गया सेना का जवान (VIDEO)

सुपर 5000 योजना

संबल योजना में  नई सुपर 5000 योजना को जोड़ा गया है। संबल परिवारों के ऐसे 5000 बच्चे जो 12वीं में सबसे ज्यादा नंबर लाया है, उन्हें 30000 रुपये प्रोत्साहन राशि के रूप में अलग से दिए जा रहे हैं। संबल योजना में संबल परिवारों के ऐसे बच्चे जो राष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिताओं में भाग ले रहे हैं, उन्हें 50 हजार रुपये दिए जा रहे हैं।

प्रसूति सहायता के तहत 14000 रु तक की मदद

संबल योजना की पात्र कोई गरीब किसी शिशु को जन्म देगी तो जन्म देने से पहले 4 हजार और जन्म देने के बाद 12 हजार रुपये उनके खाते में आते हैं।

मुख्यमंत्री जन कल्याण (संबल) योजना में असंगठित श्रमिकों को लाभांवित करने का प्रावधान है। असंगठित श्रमिक से आशय उस व्यक्ति से है जो 18 से 60 वर्ष की आयु का हो एवं जो नौकरी, स्वरोजगार, घरों मे कार्य, या वेतन हेतु अन्य अस्थाई प्रकृति के कार्य कर रहा हो, किसी ऐसे कार्य मे नियोजित हो जो किसी एजेंसी, ठेकेदार के माध्यम से या प्रयत्क्ष रूप से किया जा रहा हो और जिन्हें बीमा, भविष्य निधि, ग्रेच्युटी, पेंशन आदि सामाजिक सुरक्षा प्रावधानों का लाभ प्राप्त नहीं होता हो।

इसे भी पढ़ें : Gujrat के पूर्व सीएम केशुभाई पटेल का निधन, कोरोना को दे चुके थे मात

- Advertisement -
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

spot_img
spot_img

Recent articles

spot_img

Don't Miss

spot_img