spot_img
Wednesday, December 7, 2022
spot_img
spot_img
Wednesday, December 7, 2022
spot_img

Related articles

spot_img
spot_img

बाहुबली अमरेंद्र पांडेय पर जदयू ने फिर खेला दांव, हत्‍या-रंगदारी के कई मामले है दर्ज

spot_img
spot_img
- Advertisement -

कोहराम लाइव डेस्‍क : बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक दल जोर-शोर से चुनावी तैयारी में जुटे हैं। सभी जीतने वाले उम्‍मीदवार पर दांव खेलना चाहते हैं। जीत के आगे कुछ भी मायने नहीं रखता है। चाहे वो कोई अपराधी हो या फिर बाहुबली। वैसे भी बिहार की राजनीति में बाहुबलियों का हमेशा से बोलबाला रहा है। चाहे वो शहाबुद्दीन हो, अनंत सिंह हो, सुनील पांडेय हो, रामा सिंह हो, आनंद मोहन हो या फिर कोई और।

- Advertisement -

इसे भी पढ़ें : लालू को Highcourt से मिली बेल, पर अभी काटनी होगी जेल

इस चुनाव में भी कई पार्टियों ने बाहुबलियों को चुनावी मैदान में उतारने का फैसला किया है। आज हम ऐसे ही एक बाहुबली के बारे में बता रहे हैं, जिन्‍हें सत्‍ताधारी दल जेडीयू ने जीत का जिम्‍मा सौंपा। विधायक अमरेन्द्र कुमार पांडेय को गोपालगंज जिले के कुचायाकोट विधानसभा सीट से जदयू ने इन्‍हें टिकट दिया है।

इसे भी पढ़ें : Shameful : दो महिला समेत तीन लोगों को नग्न कर पीटा

अमरेंद्र पांडेय कुख्यात सतीश पांडेय के भाई हैं। सतीश पूर्व मंत्री बृज बिहारी हत्याकांड में आरोपी हैं और उनका जेल आना-जाना लगा रहता है। सतीश पांडये को अंतरराज्यीय अपराधी गिरोह का सरगना भी बताया जा रहा है। अमरेंद्र पांडेय उर्फ पप्पू पांडेय ने सिर्फ 12वीं तक की पढ़ाई की है, मगर करोडों की संपत्ति के मालिक हैं। अमरेंद्र 2010 में बीएसपी की टिकट पर और 2015 में जदयू की टिकट पर विधानसभा चुनाव जीत चुके हैं।

इसे भी पढ़ें : राजनीति के मौसम वैज्ञानिक Ram Vilas Paswan छह पीएम के मंत्री रहे

अमरेंद्र कुमार पांडेय पर हत्‍या, रंगदारी के कई मामले दर्ज

कुचायकोट एक दियारा इलाका है और गन्ने की खेती के लिए प्रसिद्ध है। यहां अमरेंद्र पांडेय की यहां छवि किसी रॉबिनहुड से कम नहीं। वो यहां गरीबों की मदद करने के लिए काफी मशहूर हैं। मगर केवल यह ही सच्‍चाई नहीं है। विधायक अमरेंद्र पांडेय के खिलाफ थाने में दर्जनों मामले दर्ज हैं। अमरेंद्र पर हत्या, रंगदारी, वसूली, जैसे कई मामले दर्ज हैं। उनपर 2012 में शराब व्यवसायी अनिल साह की हत्या का मामला भी दर्ज है। इस मामले में उनके साथ पिता, जीजा, भाभी और पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष उर्मिला पांडेय पर भी मुकदमा दर्ज हुआ था। मामले में 50 लाख रुपये की रंगदारी नहीं देने पर हत्या करने का आरोप लगा था।

इतना ही नहीं उनपर एक कंस्ट्रक्शन कंपनी के कार्यकारी निदेशक ने 50 लाख रुपये रंगदारी का मामला दर्ज कराया था। वहीं 2018 में बीजेपी नेता शिव कुमार उपाध्याय ने भी अमरेंद्र पांडेय पर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया था। इसके अलावा गोपालगंज में जिले के हथुआ थाना इलाके के रुपनचक गांव में RJD नेता के परिवार के तीन सदस्‍यों की हत्‍या मामले में भी उनका नाम उछला था।

- Advertisement -
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

spot_img
spot_img

Recent articles

spot_img

Don't Miss

spot_img