spot_img
Sunday, August 14, 2022
spot_img
Sunday, August 14, 2022
spot_img
spot_img

Related articles

चुनाव के बीच नल-जल योजना के ठेकेदारों पर IT Raid

- Advertisement -
  • 75 करोड़ की अघोषित आय का खुलासा
  • ठेकेदार के यहां से 2.28 करोड़ रुपये नकद बरामद

कोहराम लाइव डेस्‍क : बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के शोर के बीच आयकर विभाग ने बिहार के पटना के प्रमुख चार ठेकेदारों की फर्मों पर एक साथ Raid डाली। आयकर विभाग की छापेमारी में इनके ठिकानों से 75 करोड़ की अघोषित आय का खुलासा हुआ है, तो वहीं नल-जल योजना से संबंधित एक ठेकेदार के यहां से 2.28 करोड़ का कैश बरामद किया गया है।

इसे भी पढ़ें : पुलवामा पर PM-Modi ने कहा- पड़ोसी देश ने कबूला गुनाह

- Advertisement -

आयकर विभाग ने पटना, भागलपुर, हिलसा और कटिहार में चार प्रमुख ठेकेदार समूहों के यहां एकसाथ Raid की थी। चारों ठेकेदारों के यहां की गई Raid में 75 करोड़ की अघोषित आय का खुलासा हुआ है। इनमें से दो ठेकेदार ऐसे हैं, जो नल-जल योजना से संबंधित हैं। इनमें से एक ठेकेदार के यहां से आयकर विभाग की टीम ने नकद 2.28 करोड़ रुपये बरामद किए।

इसे भी पढ़ें : प्यार, धोखा, भरोसे का खून… Tara के इश्क का अंजाम, मारा गया सेना का जवान (VIDEO)

अधिकांश लोग जिनके पास अवैध दस्तावेज मिले हैं वे उसके बारे में संतोषजनक जवाब नहीं दे पा रहे हैं। इस छापेमारी को लेकर जहां विपक्ष ने सरकार को घेरा है। वहीं एनडीए नेता का कहना है कि वो तथ्यों की जानकारी ले रहे हैं। भाजपा नेता भूपेंद्र यादव का कहना है कि पूरी पारदर्शिता के साथ नीतीश कुमार के नेतृत्व में सरकार चल रही है।

वहीं केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने एक बयान में कहा, ‘चारों समूह सामग्री एवं मजदूर की आपूर्ति में ज्यादा खर्च दिखाकर कर से बचते हुए पाए गए। अभी तक की छापेमारी में 75 करोड़ रुपये की अघोषित आय का पता चला है।’ सीबीडीटी आयकर विभाग के लिए प्रशासनिक प्राधिकार है।

सीबीडीटी ने बताया कि छापेमारी के दौरान 3.21 करोड़ रुपये नकद जब्त किए गए जबकि 30 करोड़ रुपये की सावधि जमा पर रोक के आदेश दिए गए हैं। बयान में बताया गया कि 16 करोड़ रुपये की संपत्ति पर भी रोक लगाई गई है। सीबीडीटी ने कहा कि एक मामले में इसने पाया कि विभिन्न पार्टियों को बिना किसी सेवा या आपूर्ति के साक्ष्य के भुगतान किए गए हैं।

जल-नल योजना का वर्क ऑर्डर जब्त

आयकर विभाग ने भागलपुर के ठेकेदार ललन कुमार और उनके भाई सुमन कुमार के यहां से अब तक 82 लाख रुपये नकदी बरामद की है। दोनों भाइयों के यहां से कई एकड़ जमीन खरीदने के सबूत भी मिले हैं। इनकी लोटस कंस्ट्रक्शन लिमिटेड नाम से कंपनी है। विभाग ने जिले की कई पंचायतों में जल-नल योजना में इन ठेकेदार भाइयों को मिले काम का वर्क ऑर्डर भी जब्त कर लिया है।

- Advertisement -
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

Recent articles

Don't Miss

spot_img