29 C
Ranchi
Sunday, April 11, 2021
spot_img

Latest Posts

‘नाक नक्श से खूबसूरत बहुरिया प्रीति मरवा देलक’… पति को लगाया ठिकाना, अब जायेगी जेल : SP

रांची : ‘नाक नक्श से खूबसूरत बहुरिया प्रीति मरवा देलक’…… प्यार दुनिया की सबसे खूबसूरत फीलिंग मानी जाती है। पर तब क्या जब ये प्यार किसी से किसी की हत्या करवा दे। एक महिला के सिर प्यार का बुखार ऐसा चढ़ा कि प्रेमी के साथ मिल कर पति को ही सुला दिया मौत की नींद। मां रोकती रही… बाप मना करता रहा, पर बेटे को फुसला कर बहुरिया पति कार्तिक को ले गयी अपने साथ। कार्तिक को कहां पता था कि जिस पत्नी ने सात जन्मों तक साथ निभाने की कसमें खाई थी, वो ही उसकी खून की प्यासी है। बहू की सनक से बूढ़ें मां-बाप के घर का इकलौता बुझ गया।

शनिवार का दिन था। अमावस चढ़ गया था। घर के एक कोने में बैठी मां का दिल बहुत घबड़ा रहा था। लगता है आज कुछ अनर्थ होने वाला है। व्याकुल होकर एक बार मन के आंगन से अपने-बेगाने सबको झांक लेती है कि सबकुछ ठीक तो है। तभी उसके कान में हौले से पड़े एक शब्द ने उसे चौंका दिया। वह पूरा दम लगाती है कि बेटा आज घर से बाहर न निकले, पर बहुरिया की जिद के आगे वह हार जाती है। बेटा के घर से निकलते ही फोन पर पल-पल की टोह लेती रही कि वह कहां है और क्या कर रहा है। उसी रात साढ़े आठ बजे के आसपास खबर आती है कि बेटा खून से लथपथ बाढ़ू पुल (कांके) के पास पड़ा है। आखिर वही हुआ, जिसका डर उसे सुबह से सता रहा था। अपने मालिक (पति) को पुकारती है, शोर मचाती है- ‘अरे कोई तो जाकर देखो, क्या हो गया कार्तिक को।’ खुद तो नहीं जा पाती, पर जो जाते हैं, वे सिर्फ इतना बताते हैं कि हालत बहुत खराब है। कुछ कहा नहीं जा सकता। ‘अरे, बहुरिया तो बोली थी, चोट लगी है, घबड़ाने की जरूरत नहीं है। इलाज चल रहा है, जैसा होगा, बताएंगे।’ मां की रात जागते हुए बीती। सुबह मनहूस खबर आती है कि कार्तिक मर गया। मां और बाप तब दंग रह जाते हैं जब चारों ओर शोर मचता है कि हत्‍या की सूत्रधार बहुरिया प्रीति है। अब मामला थाना से लेकर कोर्ट तक पहुंचा है। वाकई में प्रीति बेगुनाह है या गुनहगार, यह तो उससे बेहतर कोई नहीं बता सकता, लेकिन पुलिस फाइल में दर्ज कहानी साफ तौर पर उसे गुनहगार बता रही है। कोर्ट ने भी उसकी अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया।

कार्तिक के पिता फफक कर रोते हुए बताते हैं कि सुंदर लड़की, अच्छा घर-परिवार देख कर हमने अपने इकलौते बेटे की शादी की थी। हमें क्या पता कि बहू ही हत्यारिन हो जायेगी। वे कहते हैं कि अंकित केसरी से मायके से ही बहू का प्रेम संबंध चल रहा था। बेटे की शादी के 14 साल हो गये। नौ साल की और एक पांच साल की दो बेटियां भी हैं। हमें क्या पता कि सुंदर चेहरे के पीछे एक अपराधी है। अंकित का तीन साल से हमारे घर आना-जाना शुरू हुआ। हमें क्या पता कि उसका क्या मकसद है। वो हमारी पत्नी को फुआ बोलता था। हमारा बेटा एकदम सीधा था। बहू ने छल से मरवा दिया। अगर दोनों के प्रेम का जरा भी आभास होता, तो हम अपनी बहू को मायके भेज देते। कम से कम हमारा बेटा जिंदा तो होता।

इसे भी पढ़ें : रांची के बड़े ठेकेदार अरविंद सिंह की गढ़वा में गोली लगने से मौत

बेटे के गम में डूबी मां ने बताया कि जिस दिन दोनों बाजार गये, तब भी मेरा मन घबड़ा रहा था। मैं बार-बार फोन से पता कर रही थी कि मेरा बेटा ठीक है या नहीं। कार्तिक से फोन पर जब अंतिम बार बात हुई तो वह बोला कि सैनिक मार्केट के पास अलंकार ज्वेलर्स आये हैं। वहां प्रीति को पुराने गहने बदल कर नये गहने लेना है। हमें क्या पता कि अब मेरा बेटा वापस नहीं लौटेगा। हमें बहू पर शक तब हुआ, जब उसने अपना फोन तोड़ दिया और दोनों बच्चों को लेकर अपने मायके चली गयी। इस बीच गांव वाले भी बोलने लगे कि बहू ने ही तुम्हारे बेटे की हत्या करायी है। वही जिद करके रांची ले गयी थी। योजना के अनुसार बच्चों को भी घर छोड़ गयी थी। बहू के जाने के बाद हमने पुलिस में बहू के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया। बाद में ड्राइवर दीपक के इकबालिया बयान और उसकी गिरफ्तारी के बाद पूरा मामला खुल गया।

पुलिस अनुसंधान में बहू प्रीति के कॉल रिकॉर्ड से अंकित केसरी से उसका कनेक्शन पता चला। पता चला कि वह घटना के दिन 28 सितंबर 2019 को ओरमांझी से लेकर पिठौरिया के रास्ते बाढ़ू तक लगातार मौजूद था। इससे पुलिस को संदेह हुआ। पुलिस ने अंकित केसरी के ड्राईवर दीपक लिंडा को पकड़ कर दबिश दी तो उसने सारा मामला उगल दिया। दीपक के इकबालिया बयान के अनुसार अंकित और प्रीति में कई साल से प्रेम संबंध था। घटना के दिन अंकित दीपक के घर लोधमा आया और उसे ओरमांझी चलने को बोला। एक काली स्कॉर्पियो में अंकित उर्फ बिट्टू, विशाल, राहुल और दीपक लोधमा से निकले। कुछ देर के बाद अंकित ने दीपक का मोबाइल ले लिया और उससे कुछ व्हाट्सएप मैसेज किये। इसी बीच रास्ते में एक रेस्टोरेंट में सभी ने खाना खाया, फिर अंकित के कहने पर गाड़ी रिंग रोड पर मोड़ दी गयी। इसी दौरान कांके से बियर लेकर सभी ने पी, फिर बाढ़ू के पास एक नदी के किनारे गाड़ी अंकित ने रोकवा दी और कहा कि हम किसी का इंतजार कर रहे हैं। करीब आठ बजे के आसपास एक वैगन आर गाड़ी गुजरी तो अंकित ने गाड़ी का पीछा करने को कहा। गाड़ी ओवरटेक कर रोकी। फिर अंकित और विशाल कुछ दूर चले गये। दीपक गाड़ी में ही बैठा रहा। थोड़ी देर के बाद दोनों खून से लथपथ लौटे। दोनों के हाथ में हथौड़ा था। वहां से वे मोरहाबादी, खेलगांव होते हुए चुटिया आ गये। बिट्टू ने दीपक से विशाल और राहुल को रेलवे स्टेशन छोड़ने को कहा और खुद चुटिया अपने मौसा के घर रुकने की बात कही। रात 11 बजे बिट्टू फिर आया और पीने की जिद करने लगा। पीने के बाद मेडिका अस्पताल चलने की बात कही। वहां पहुंचकर दीपक को गाड़ी में ही रहने को कहा और खुद मेडिका के अंदर चला गया। दीपक राहुल को घर छोड़ कर अपने घर लोधमा लौट गया। रात को बिट्टू फिर लोधमा पहुंचा और दीपक को बोला कि घटना के बारे में किसी को मत बताना वर्ना तुम्हें भी जान से मार दूंगा। उसने कहा कि मैंने जिसका मर्डर किया है, उसकी वाइफ को अपने पास रखूंगा।

बहू ने इस घटना की जो कहानी बतायी थी, उसके अनुसार अलंकार ज्वेलर्स से गहने लेने के बाद पति-पत्नी ने कृष्णा होटल में खाना खाया। वहां से वे अपर बाजार के फैशन वर्ल्ड दुकान गये, जहां से प्रीति ने साड़ी और बच्चियों के लिए कपड़े खरीदे। मार्केट से निकलने के बाद बेकरी शॉप से केक खरीदा और घर के लिए कांके रोड निकल पड़े। रास्ते में प्रीति ने खुद गाड़ी चलाने के लिए मांगा। कार्तिक की मां और पिता की प्रीति से लगातार बात हो रही थी और वे हालचाल पूछ रहे थे। अचानक प्रीति का फोन बंद आने लगा। थोड़ी देर के बाद प्रीति ने ही फोन कर बताया कि कार्तिक का एक्सीडेंट हो गया है। उसने बताया कि एक जगह टॉयलेट के लिए गाड़ी रोके थे। तभी बाइक पर चार लोग आये और कार्तिक पर रॉड से हमला कर दिया। हम अपने चाचा अनिल को बुला लिये हैं और कार्तिक को लेकर मेडिका जा रहे हैं।

ड्राइवर दीपक लिंडा के इकबालिया बयान के बाद अवैध संबंध में हुए कार्तिक हत्याकांड की गुत्थी सामने आ गयी है। वहीं पुलिस फाइल में गुनाहगार ठहराई गयी प्रीति ने कैमरा के सामने आने से इनकार कर दिया। उसके पिता महावीर ने उसे निर्दोष बताया है।। इस अवैध संबंध में हुई हत्या से इकलौते बेटे के मां-बाप जहां बुरी तरह टूट गये हैं, वहीं दो छोटी बच्चियों का भविष्य भी संकट में पड़ गया है।

कोहराम लाइव के लिए नंदनी, रुपम और आरती के साथ कैमरामैन धीरज की रिपोर्ट

Latest Posts

Don't Miss

Stay in touch

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.