spot_img
Tuesday, September 27, 2022
spot_img
Tuesday, September 27, 2022
spot_img

Related articles

spot_img

Kamrunag झील में दबा है अरबों का खजाना, रहस्य जानकर हो जाएंगे हैरान

spot_img
- Advertisement -

नई दिल्ली : Kamrunag झील हिमाचल प्रदेश में है। ह‌िमाचल प्रदेश ज‌िसे देवभूम‌ि यानी देवताओं की जमीन के नाम से भी जाना जाता है। इस भूम‌ि के चप्पे-चप्पे पर रहस्य छुपा हुआ है। हिमचाल प्रदेश अपनी खूबसूरत वादियों और घाटियों के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध है। देश-विदेश से लोग वादियों का दीदार करने आते हैं।

- Advertisement -

हिमचाल की पहाड़ियों में सभ्यता और संस्कृति बसती है। इस प्रदेश में कई ऐसी जगह हैं जो रहस्यमयी हैं। इनमें एक Kamrunag कमरूनाग झील है। ऐसा कहा जाता है कि इस झील में खजाना छिपा है। इसके बारे में कई तथ्य हैं। जानकारों की मानें तो कमरूनाग झील में अरबों रुपये का खजाना है। हालांकि, अब तक इस झील से पैसे और जेवर नहीं निकाले गए हैं। इस झील के समीप एक मंदिर भी है, जिसे कमरूनाग मंदिर कहा जाता है। अगर आपको इस झील के बारे में नहीं पता है, तो आइए कमरूनाग के बारे में विस्तार से जानते हैं

इसे  भी  पढ़ें :महिला सुरक्षा को लेकर Help-Line-Number जारी, शिकायत पर तुरंत होगी कार्रवाई

Kamrunag झील कहां है

मंडी जिले से कुछ दूरी पर भगवान कमरुनाग का मंदिर है। मंदिर के पास ही एक झील है, जिसे कमरुनाग झील के नाम से जाना जाता है। यहां पर लगने वाले मेले में हर साल भक्तों की काफी भीड़ जुटती है और पुरानी मान्यताओं के अनुसार भक्त झील में सोने-चांदी के गहने और पैसे डालते हैं। सदियों से चली आ रही इस परंपरा के आधार पर यह माना जाता है कि इस झील के गर्त में अरबों का खजाना दबा पड़ा है।

हिमचाल प्रदेश के मंडी जिले से 51 किलोमीटर दूर करसोग घाटी में स्थित है। इस झील तक पहुंचने के लिए पहाड़ियों के बीच रास्ता है। ऐसा माना जाता है कि कमरूनाग झील के दृश्यों को देखकर सभी थकान दूर हो जाती है। इस स्थान पर पत्थर से निर्मित कमरूनाग बाबा की प्रतिमा है। हर साल जून में कमरूनाग मंदिर में मेला का आयोजन किया जाता है।

बाबा को सोना-चांदी चढ़ाने से मनोकामनाएं पूर्ण

इस बारे में स्थानीय लोगों का कहना है कि बाबा सालभर में केवल एक बार दर्शन देते हैं। जून महीने में बाबा प्रकट होते हैं। इसके लिए जून में मेले का आयोजन किया जाता है। इस मौके पर काफी संख्या में लोग बाबा के दर्शन के लिए होते हैं। इस दौरान लोग मनचाहा वर प्राप्ति के लिए झील में सोने चांदी और रुपये दान करते हैं।

मान्यता है कि बाबा कमरूनाग को सोना-चांदी चढ़ाने से व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। इसके लिए लोग रुपये और जेवर झील में डालते हैं। लोगों की बाबा कमरूनाग में अटूट श्रद्धा है। सदियों से यह परंपरा चलती आ रही है। इसके चलते जानकारों का कहना है कि झील में अरबों का खजाना है।

इसे  भी पढ़ें :Google ने हटाए 3,000 फर्जी Youtube चैनल, चीन से था संबंध

- Advertisement -
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

spot_img
spot_img

Recent articles

spot_img

Don't Miss

spot_img