spot_img
Monday, October 3, 2022
spot_img
spot_img
Monday, October 3, 2022
spot_img
spot_img

Related articles

spot_img
spot_img

गुरूर है उन दुल्हन पर जो वचन लेती है, झुकने ना देना कभी तिरंगे को… देखें वीडियो

spot_img
- Advertisement -

Ranchi : जब उनका अंत हुआ, तब उनकी जुबां से बस इतना ही निकला खुश रहना मेरे देशवासियों… आजाद भारत के 75वें अमृत महोत्सव पर क्या बड़ा, क्या छोटा, क्या आम, क्या खास… हर किसी का आया पैगाम जश्न का… घर घर तिरंगा फहराने के बाद उन्हें सैल्यूट किया और कहा- यही है अपनी आन, बान और शान। आजादी के जश्न की तैयारी में शासन-प्रशासन से लेकर हर तबका पूरे तन मन को भिगो रहा था। झमाझम बारिश भी उन्हें रोक नहीं सकी। गजब का उमंग तरंग और उत्साह हर आंगन में हिलोर मार रहा था। सड़कों पर तिरंगा यात्रा का अलग सा नजारा। रंग-बिरंगी रौशनी से नहाती सड़कों के दोनों तरफ लहराते तिरंगा इस बात के गवाह थे कि हर किसी के सीने में धड़कता है अपना तिरंगा। एकता और अखंडता का संदेश दे गया घर घर तिरंगा अभियान। दिन रात एक कर सखी मंडल की बहनों ने झंडा तैयार किया। सरकार ने उन्हें सुई-डोरा से लेकर कपड़े तक मुहैया कराया। बहनों ने भी ठाना और मिले टारगेट को पूरा किया।राजधानी रांची में पर्व त्योहार सा माहौल था। लोगों में अजीब सी आस्था भी झलकी, ज्यादातर देखा सुना गया कि आज ना  नॉनवेज बना और ना ही कटा। रांची नगर निगम का यह फरमान भी था। दारू दुकान के शटर भी बंद देखें गए। गली मोहल्ले कस्बे और बस्ती में देशभक्ति गानों की धूम मची थी। बदला-बदला पोशाक भी भारत दर्शन करा गया। सबसे अलग नजारा जोन्हा फॉल का दिखा। वहां से गिरते झरने में रंगों का घोल तिरंगे सा था। यह दृश्य सबका मन मोह गया। कुछ लोगों के जुबां पर यह बातें भी आई कि आज कुदरत भी आजाद भारत के जश्न के मूड में है।

- Advertisement -

बस मन कचोट गया शहीदों के परिवारों के आंगन में छाई मायूसी। पर उन्हें नाज भी था उन जवानों पर जो अपनी जान देकर कर जाते हैं सबकी हिफाजत सचमुच नाज है उन शहीदों पर। जिन्होंने अपनी वतन के खातिर लहू का तिलक अपने माथे पर लगाया। गुरूर है उन मांओं पर जिन्‍होंने अपनी ममता का गला घोंट उस वक्‍त भी नहीं रोई, जब तिरंगे का कफन बेटे ने पहना था। अभिमान है उन बहनों पर जो राखी की सौगंध देकर माथे पर तिलक लगा करती है सरहद पर विदाई। गुमान है उन दुल्‍हन पर जो बंदूक थमा विदा कर यह वचन लेती है कि कभी झुकने न देना तिरंगे को। उन मासूम और प्‍यारे बच्‍चों को देखो, जो अपने पापा के प्राणों की सौगंध खाकर बोल उठते हैं, मुझे भी वतन का सच्‍चा पहरेदार बनाओ।

इसे भी पढ़ें : … और इस तरह तिरंगे के रंगों के साथ खिल उठा रांची का जोन्हा फॉल

इसे भी पढ़ें : CM हेमंत सोरेन ने किया बड़ा ऐलान, 75 फीसदी सरकारी सीटों पर यहां के लोगों की होगी बहाली 

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

spot_img
spot_img

Recent articles

spot_img

Don't Miss

spot_img