February 24, 2024
Saturday, February 24, 2024
More
    20 C
    Patna
    16.1 C
    Ranchi
    15 C
    Lucknow
    spot_img

    हूल दिवस पर सिदो-कान्हू को डीसी ने दी श्रद्धांजलि, बोले- वीर सपूतों से हमें प्रेरणा लेने की आवश्यकता है

    spot_img

    Published On :

    • वीर सपूतों के चित्र पर माल्यार्पण कर किया नमन

    RANCHI : ऐतिहासिक हुल दिवस पर बुधवार को रांची के डीसी छवि रंजन ने संताल विद्रोह के नायक शहीद सिदो-कान्हू को श्रद्धांजलि अर्पित की। अपने कार्यालय में शहीद सिदो- कान्हू के चित्र पर माल्यार्पण कर उन्हें नमन किया। डीसी ने कहा कि झारखंड के वीर सपूतों से हमें प्रेरणा लेने की आवश्यकता है। हमें सिदो-कान्हू के इस राज्य को देश का सबसे विकसित राज्य के रूप में स्थापित करने के लिए प्रयास निरंतर जारी रखना चाहिए।

    Read More :सरकारी जमीन से अवैध कब्जा हटवाने गए SDM पर पथराव, ऐसे बचाई जान

    अंग्रेजों  हमारी माटी छोड़ो

    गौरतलब है कि इन्हीं क्रांतिकारियों की बदौलत संताल परगना काश्तकारी अधिनियम अंग्रेजों ने लागू किया। सिदो – कान्हू के नेतृत्व में आजादी की पहली लड़ाई अंग्रेजों के खिलाफ लड़ी गई। इन शहीदों की याद में 30 जून को हूल दिवस मनाया जाता है। इस विद्रोह की शुरुआत साहिबगंज जिले के भोगनाडीह गांव से हुई। जहां इन नायकों का जन्म हुआ था। कहा जाता है कि आजादी की पहली लड़ाई 1857 से पहले ही झारखंड के आदिवासियों ने 1855 में ही विद्रोह का झंडा बुलंद कर दिया था। 30 जून 1855 को सिदो – कान्हू के नेतृत्व में संताल आदिवासियों का विशाल आंदोलन अंग्रेजों के विरोध में छेड़ा गया था। इसमें अंग्रेजों ने बड़ी चालाकी से इन दोनों भाइयों को गिरफ्तार कर फांसी दे दी थी। आंदोलन का नारा था, ”करो या मरो, अंग्रेजों हमारी माटी छोड़ो”।

    Read More :स्‍नोबोर्ड चैंपियन की मौत के बाद डेड बॉडी से गर्लफ्रेंड ने लिया स्पर्म, हो गई प्रेग्नेंट!

    - Advertisement -
    spot_img
    spot_img
    spot_img

    Related articles

    Weekly Horoscope ( साप्ताहिक राशिफल )