spot_img
Thursday, August 18, 2022
spot_img
Thursday, August 18, 2022
spot_img
spot_img

Related articles

Conversion : सरना धर्म छोड़ने वाले को किया समाज और गोतिया से बाहर

- Advertisement -
  • सरना छोड़ दूसरा धर्म अपनाने पर गांव वाले आक्रोशित
  • एकजुट हुए कुंदा गांव के मांझी समुदाय के लोग

रामगढ़ : झारखंड में Conversion यानि धर्म परिवर्तन की खबर आए दिन आती ही रहती है। राजधानी रांची के पास ओरमांझी का मामला अभी थमा ही नहीं था कि रामगढ़ जिले वेस्ट बोकारो के कुंदा गांव भी अब सुर्खियों में आ गया है। गांव के एक युवक ने सरना धर्म त्यागकर गुपचुप तरीके से क्रिश्चियन धर्म को अपना लिया है। इसकी सूचना जैसे ही गांव के पेसराटांड़ टोला के लोगों को मिली, एक चिंगारी सी धधक उठी। लोगों ने इसका पुरजोर विरोध करना शुरू कर दिया। ग्रामीणों ने बैठक कर उस युवक को समाज और गोतिया से बाहर कर दिया है।

ग्रामीणों में आक्रोश, बैठक में दिखाई एकजुटता

गांव वालों ने बताया कि पेरसाटांड़ टोला के एक युवक ने सरना धर्म छोड़ कर दूसरा धर्म अपना लिया है। इस Conversion (धर्म परिवर्तन) मामले को लेकर इस्टर्न रेलवे बोर्ड सलाहकार समिति हावड़ा के अध्यक्ष बिरसा हांसदा की अध्यक्षता में सरना समुदाय की एक महत्वपूर्ण बैठक संपन्न हुई।

- Advertisement -

इसे भी पढ़ें : Unlock : 8 नवंबर से अंतरराज्यीय बसें चलेंगी, जिम-बार भी खुल…

बैठक में कहा गया कि पांच साल पूर्व गुपचुप तरीके से युवक ने समाज के विरुद्ध जाकर क्रिश्चियन धर्म को अपनाया है। इस मामले का पटाक्षेप तब हुआ, जब टोला में जगह जमीन का हिस्सा बंटवारा और पूजा पाठ की बात होने लगी। इस दौरान गांव देवता के पूजा के लिए सरना समाज के लोग जब चंदा मांगने युवक के घर गए तो उसने चंदा देने और प्रसाद ग्रहण से इंकार कर दिया। उसने स्पष्ट कहा कि उसने दूसरे धर्म को अपना लिया है।

सामाजिक कार्यक्रमों में शामिल नहीं होने दिया जाएगा

बैठक में सर्वसम्मति से छोटका मांझी सरना समाज के सामाजिक कार्यक्रम, शादी विवाह कार्यक्रम और धार्मिक कार्यक्रमों से बहिष्कृत किया गया। लोगों ने बताया कि उसे अपने धर्म में वापस आने की जब बात कहीं गई तो वह हमें ही क्रिश्चियन धर्म अपनाने की वकालत करने लगा। इसके बाद हम सभी ने  मिलकर युवक को सरना समाज और गोतिया से बहिष्कृत किया।

धर्मपरिवर्तन कराने का चल रहा गंदा खेल

इस्टर्न रेलवे बोर्ड सलाहकार समिति हावड़ा के अध्यक्ष सह सरना समाज के बिरसा हांसदा ने इस मामले को गंभीरतापूर्वक लेते हुए अग्रिम कार्रवाई की ओर कदम बढ़ाया है। बिरसा हांसदा ने बताया कि सरना समाज को खत्म करने की साजिश को कभी कामयाब नहीं होने देंगे। उस व्यक्ति का पता लगाया जाय, जिसने सरना समाज के हांसदा परिवार पर कुदृष्टि डाली है। वैसे लोगों को बेनकाब कर कानून के हवाले किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें : झारखंड में फिर Transfer, 12 डीएसपी इधर से उधर

- Advertisement -
spot_img
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

Recent articles

Don't Miss

spot_img