spot_img
Monday, November 28, 2022
spot_img
spot_img
Monday, November 28, 2022
spot_img
spot_img

Related articles

spot_img
spot_img

Remember : अशांत रहने से काम में नहीं लगता है मन

spot_img
spot_img
- Advertisement -

कोहराम लाइव डेस्क : Remember : हमें अपने काम को मन से करना तो चाहते हैं, पर कई बार ऐसा बिल्कुल नहीं कर पाते। कभी सोचा है कि ऐसा क्यों होता है। इसका सबसे बड़ा कारण है हमारा अशांत होना। अशांत मन की वजह से काम में मन नहीं लग पाता है। जीवन में सुख-शांति बनाए रखने के लिए जरूरी है मन में संतुष्टि का भाव बना रहे। अगर असंतुष्टि रहेगी तो मन हमेशा अशांत ही रहेगा। इसलिए हमें हमेशा इस बात को ध्यान में ( Remember ) रखना चाहिए।

जानें एक प्रसिद्ध कथा

- Advertisement -

इस संबंध में एक लोक कथा बहुत प्रसिद्ध है। कथा के अनुसार एक गरीब हमेशा भगवान से प्रार्थना करता था कि उसे धन का सुख मिल जाए। इसीलिए वह भक्ति करते रहता था, लेकिन उसकी समस्याएं खत्म नहीं हो रही थीं।

एक दिन उसके गांव में एक संत आए और गांव में ही कुछ दिनों के लिए रुक गए। संत के प्रवचन सुनने के लिए गांव के सभी लोग पहुंचते थे। वह गरीब भी संत से मिलने पहुंचा। गरीब व्यक्ति ने संत को अपने बारे में बताया और कहा कि मुझे परेशानियां दूर करने का कोई उपाय बताएं। संत ने उसे एक मंत्र बताया और कहा कि रोज इस मंत्र का जाप करना। संत की बताई विधि से गरीब व्यक्ति मंत्र जाप करने लगा।

इसे भी पढ़ें : 45 Quintal अवैध चावल बरामद, प्राथमिकी दर्ज

अशांति के कारण वर भी न मान सका

सही विधि और सही उच्चारण के साथ किए गए मंत्र जाप से धन की देवी प्रसन्न हो गईं और उसके सामने प्रकट हुईं। देवी ने उससे कहा कि मैं तुम्हारी भक्ति से प्रसन्न हूं, वर मांगो, तुम्हारी हर इच्छा पूरी होगी।

गरीब देवी को देखकर हैरान हो गया। उसे समझ नहीं आ रहा था कि वह वर में क्या मांगे? उसने देवी से कहा कि अभी मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा है, मैं कल आपको मेरी इच्छा बता दूंगा। देवी ने कहा कि ठीक है।

देवी के जाने के बाद गरीब व्यक्ति बहुत चिंतित हो गया। उसने सोचा कि मेरे पास रहने के लिए घर नहीं है, घर मांग लेता हूं। उसने फिर सोचा कि राजा शक्तिशाली होता है, मुझे राजा बनने का वरदान मांग लेना चाहिए। अपार धन आने के संकेत से ही उसे रातभर नींद नहीं आई। सुबह हो गई, लेकिन उसे समझ नहीं आया कि वर में क्या मांगना चाहिए।

हर हाल में संतुष्टि का रास्ता

वह सुबह उठा, स्नान किया और पूजा करने लगा। तभी देवी फिर से प्रकट हो गईं। व्यक्ति ने कहा कि देवी आप मुझे सिर्फ ये वर दें कि मेरा मन आपकी भक्ति में लगा रहे। सुख-दुख में हर हाल में मैं संतुष्ट रहना चाहता हूं। देवी ने कहा कि तुम अपने लिए धन-संपत्ति भी मांग सकते हो। भक्त ने कहा कि देवी अभी मेरे पास कुछ भी नहीं है, लेकिन धन आने के संकेत मात्र से मेरी नींद उड़ गई। मुझे ऐसा धन नहीं चाहिए, जिससे मेरी सुख-शांति खत्म हो जाए। देवी प्रसन्न हुईं और उन्होंने कहा तुम जैसा चाहते हो, वैसा ही होगा।

से भी पढ़ें : महिला सुरक्षा को लेकर Help-Line-Number जारी, शिकायत पर तुरंत होगी कार्रवाई

- Advertisement -
spot_img
spot_img
spot_img

Published On :

spot_img
spot_img

Recent articles

spot_img

Don't Miss

spot_img