29 C
Ranchi
Sunday, April 11, 2021
spot_img

Latest Posts

देखिए, कैसे कुंवारी कल्पना के पेट में आ गया बच्चा (VIDEO)

Ranchi (श्रद्धा / संजय) : साथ जीने मरने की कसमें खाकर हाथ थामने वाली कल्पना (बदला हुआ नाम) को छोड़ दिया। कल्पना के पेट में बच्चा पल रहा है। अब वह इस बच्चे की खातिर जीना चाहती है और उसे उसका हक दिलाना चाहती है। इसके लिए उसे जितनी लंबी लड़ाई लड़नी होगी, लड़ेगी और कोई कसर नहीं छोड़ेगी। एक बार उसका गर्भपात तक कराया गया। तब वह मरते-मरते बची थी। अब यह भूल नहीं करेगी। बच्चे को किसी भी हालत में जन्म देगी। उसने मिठू लाल महतो को अपना जीवन साथी मानकर सबकुछ न्योछावर कर दिया उसके नाम। बदले में उसे मिला सिर्फ धोखा, दगा और फरेब। यह कहना है 22 साल की कल्पना का। इंसाफ पाने की चाह में नामकुम थाना गई कल्पना को तब गहरा झटका लगा, जब पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने से इनकार कर दिया। उससे कहा गया कि जहां रहती हो, उस इलाके के थाने में जाओ। तब उसने पुलिस के कुछ बड़े साहबों को फोन किया। साहबों ने भी कोई दिलचस्पी नहीं ली। अब वह एक बार फिर बरियातू थाना जायेगी। मिठू नामकुम का रहने वाला है और खुद कल्पना बरियातू थाना क्षेत्र में रहती है। एक भूल ने उसकी जिंदगी को नरक बना डाला। आइए देखें, सुनें और समझें कल्पना के दर्द को।

अतीत में गोते लगाते हुए कल्पना उस पल को कोसती है, जब पहली बार वह मिठू लाल महतो से नामकुम पेट्रोल पंप पर मिली थी। वर्ष 2018 में रात के करीब 9 बजे वह अपनी एक दोस्त के साथ पेट्रोल पंप पहुंची और स्कूटी में पेट्रोल भरवा रही थी। मिठू से पहली मुलाकात नोंकझोंक से हुई थी। मिठू ने कल्पना को देर रात तक घूमने पर फटकार लगायी और घर जाने को कहा। कल्पना को अनजान मिठू का डांटना अच्छा नहीं लगा और वह भी उससे भिड़ गयी। तब आसपास खड़े कुछ लोगों के समझाने-बुझाने पर दोनों अपने घर चले गये। लेकिन इस मुलाकात के बीच कहीं से प्यार का झोंका उमड़ आया। मिठू को कल्पना पसंद आ गयी। एक दोस्त से उसका नंबर जुगाड़ कर लिया। अगले ही दिन उसे कॉल किया और उसे मिलने के लिए कांटाटोली बुलाया। कल्पना भी मिलने चली आयी। फिर क्या था, दोनों में ‘गुटरगूं’ शुरू हो गयी। वर्ष 2019 में दोनों घूमने दशम फॉल गये। कल्पना का कहना है कि वहां मिठू ने उसे अपने मामा से मिलाते हुए कहा कि यह आपकी पुतोहू है। दिल दे बैठी कल्पना ने मिठू से बस एक चुटकी सिंदूर मांगी थी। ऐसा ही होगा बोल, उस रात ही दोनों के बीच देह से देह का रिश्ता कायम हो गया। नतीजा, कल्पना प्रेगनेंट हो गयी। उसने मिठू को सबकुछ बताया। तब उसके होश उड़ गये। उसने उसे दवा लाकर खाने को दिया। खाते ही तबीयत ऐसी बिगड़ी कि हॉस्पीटल तक का चक्कर लगाना पड़ा। अचानक मिठू का बर्ताव बदला और मिलना-जुलना भी कम हो गया। फोन करती तो वह उठाता नहीं। अचानक एक दिन कल्पना उसके घर पहुंच गयी। घर में मौजूद महिलाओं ने उसे ही भला-बुरा कहा, पर वहीं मिठू के पिता ने उसके परिवार के संग मिल बैठकर मामला सुलझा लेने का भरोसा दिया। मिठू ने भी माफी मांगी, गिड़गिड़ाया और कहा- तुम्हीं बनोगी मेरी दुल्हन। एक बार फिर कल्पना उसके झांसे में आ गयी और फिर से प्रेगनेंट हो गयी। फिर मिठू ने उससे कन्नी काटना शुरू कर दिया। दोनों में बात इतनी बिगड़ गयी कि कल्पना नामकुम थाना तक पहुंच गयी। थाने में उसकी बात अनसुनी कर दी गयी। कल्पना ने कहा कि जब उसकी रपट दर्ज नहीं की गयी, तो उसने पुलिस के एक बड़े साहब को फोन किया। जैसे ही उसने कुछ बताना शुरू किया कि उसका फोन काट दिया गया। जिंदगी से हताश, उदास, निराश हो चुकी कल्पना अब जीना चाहती है सिर्फ पेट में पल रहे बच्चे की खातिर। उसका कहना है कि वह उसके बच्चे को जन्म देगी और उसके पापा का नाम दिला कर रहेगी, चाहे इसके लिए उसे जो कुछ भी करना पड़े।

कल्पना से अपने नजदीकी रिश्ते को कबूल करते हुए मिठू ने कहा कि वह इस कोशिश में है कि किसी तरह मिल-जुलकर मामला सलट जाये, बात बिगड़ने से बच जाये। वह फिर कल्पना को अपनाना चाहता है। मिठू का कहना है कि उसने पचासों बार फोन किया, पर एक बार भी कल्पना ने उसका फोन रिसीव नहीं किया। हर बार फोन काट देती है। उसने अपने दोस्त को उससे बात करने भेजा, पर वह अब कुछ भी सुनने को तैयार नहीं है। अब वह ”कीमत” चाहती है। जो कीमत उससे मांगी जा रही है, वह उसके वश में नहीं है। वह एक बेरोजगार युवक है और फिलहाल मां-बाप की छत्रछाया में पल-बढ़ रहा है। कभी-कभी जमीन खरीद-बिक्री का काम करता है।

इसे भी पढ़ें : अमेरिका के ‘शाहजहां’ ने अपनी ‘मुमताज’ के लिए खुद को गंगा में झोंका

इसे भी पढ़ें : इनोवा के अंदर ही बना रखी थी तिजोरी, सोना-चांदी और कैश ढूंढ़ते रह गये अपराधी

Latest Posts

Don't Miss

Stay in touch

To be updated with all the latest news, offers and special announcements.